https://subedarsingh869.wordpress.com/15-2/ विषकन्या शब्द 1962 में चीन का भारत पर आक्रमण के समय चर्चित था.चीन सुंदर लड़कियों से जासुसी कराने के लिऐ रोज उन्हें विष का डोज देकर तैयार करता था ,भारतीय सेना के अधिकारियों और बीरोकेटरों को उनके जाल में यौनउन्माद में फँसा कर जासूसी कर विषबाधित कर मार देता था. आज कुछ ऐसा ही […]

अधिक पढ़ें

#METOO

बडी़ धड़कन सुनी थी दिल तेरी सीने में काटा तो एक कतरे खूँ न निकला .. क्या था हाल जिसे मैं ऐशीऐन ऐज से एक व्यक्तित्व की पहचान से था.. ऐक महिला 97 वकील की फौज से जंग(छिनरई) छेड़ रहा है,अन्य 16 से लड़ने में हिचकिचाहट. शेर बनते और कहते भूल के लिऐ क्षमाप्रार्थी हूँ. […]

अधिक पढ़ें #METOO

यू टर्न से भले लाभान्वित हो पर चयन की अनावश्यक औपचारिकता से दाँव पा लिऐ हो पर उपल्बद्धी नही बन सकती ,अवसरवाद से.

अधिक पढ़ें यू टर्न से भले लाभान्वित हो पर चयन की अनावश्यक औपचारिकता से दाँव पा लिऐ हो पर उपल्बद्धी नही बन सकती ,अवसरवाद से.

अवस्था और व्यवस्था मे झूल रही जनता मात्र सह सकती है और समयके साथ भूल सकती है. समय है ऊन गपोडी़यों का कि अब भी उनके भरपूर समर्थक है,चाहे क्यों कैसे जान न पाओगे, भलभला.

अधिक पढ़ें अवस्था और व्यवस्था मे झूल रही जनता मात्र सह सकती है और समयके साथ भूल सकती है. समय है ऊन गपोडी़यों का कि अब भी उनके भरपूर समर्थक है,चाहे क्यों कैसे जान न पाओगे, भलभला.

कृतृत्व और उपलब्धियाँ ऊँचाई पर ले जाती है.उपस्थिति की कमी का ऐहसास जब ऐक पारिवारिकता सा संवेदन बन उठता है,अपनत्व न सही पर कमी साल सी जाती है,निश्चय ही लोकप्रियता इतनी आसान सी नही होती है.श्री देवी को एक श्रृधाजली,भावनाऐ अपने ह्रदयसे ,व्यक्त करने मे असमर्थ

अधिक पढ़ें